Latest Gulzar Shayari in Hindi | Shayari On Love 2020

Latest Gulzar Shayari in Hindi | Shayari On Love 2020


Sometimes we feel very sad and on that time we always listen songs and read Gulzar Shayari and Sad Shayari. Here is collection of Latest Gulzar Shayari in Hindi, Shayari on Love, hindi shayari, Attitude hindi shayari, Sad shayari in hindi etc.

Even you know as well as Gulzar Shayari is a best way to entertain your mood. It traditonal that is form of Shayari is often read to an audience in special setting called mehfil. Although there are many professional shayars, who create shayari for there livelihood, it is an immensely popular form of poetry for amateurs.

The inspiration for amateur Shayari is still largely romance and beauty. However, professional shayars tend to write more on social issues that is more popular for a larger section of society.

Gulzar Shayari in Hindi

gulzar shayari in hindi
Gulzar hindi shayari

Unka bhi aehsas kra deti hai ruh,
Jinse baatein nhi hoti,
ishq vo bhi krte hai jinki kaafi mulaqat nhi hoti

उनका भी एहसास करा देती है रूह, जिनसे बातें नहीं होती,
इश्क वो भी करते है जिनकी कभी मुलाकातें नहीं होती।
जागे तो ख्याल उनके !

Gazab ka ahsas hota hai ektarfa Ishq mai,
Na intezaar ki khushi
Na inkaar ka gum.

गज़ब का एहसास होता है एकतरफा इश्क मै,
न इंतज़ार की ख़ुशी,
न इनकार का गम !

gulzar shayari

Jise chaha krte the uske dil badal gye,
samunder to vahi tha par sahil badal gye,
katal kuch aise har baar hua mera,
Kabhi khanjar badal gye,
To kabhi kaatil badal gye.

जिसें चाहा करते थे उसके दिल बदल गये,
समुंदर तो वही था पर साहिल बदल गये,
कतल कुछ ऐसे हर बार हुआ मेरा,
कभी खंजर बदल गये,
तो कभी कातिल बदल गये.

gulzar shayari

Hum to dosti mai hi khush the,
tumne hi gale lagakr baat bigad di.

हम तो दोस्ती मै ही खुश थे,
तुमने ही गले लगाकर बात बिगाड़ दी.

Khushi iss baat ki thi ki,
tumse milunga.
Gum iss baat ka tha ki,
Aakhri Baar…!

ख़ुशी इस बात की थी की तुमसे मिलूँगा,
गम इस बात का था की, आखरी बार…!

gulzar shayari

jaruri nhi mohobbat mai,
Roj baatein ho khamosi se,
Uske messege ka intezar
Karna bhi to ishq hai..!

जरुरी नही मोहोब्बत मै,
रोज बातें हो खामोशी से,
उसके मेसेज का इंतज़ार
करना भी तो इश्क है..!

gulzar shayari

Kisi ke sath hasne mai kya badi baat hai,
Samne jiske ji bhr ke ro sakte ho,
Usme humsafar vaali baat hai…

किसी के साथ हसने मै क्या बड़ी बात है,
सामने जिसके जी भर के रो सकते हो,
उसमे हमसफ़र वाली बात है,

Tumhe chahne vala jab tumhe hi vakt
Dena band kr de,
To samjh lena ki vo ab tumhara nhi rha.

तुम्हे चाहने वाला जब तुम्हे ही वक्त देना बंद कर दे,
तो समझ लेना की वो अब तुम्हारा नही रहा..

Pata to mujhe bhi tha,
Ki log badal jaate hai
Pr maine to kabhi tumhe
Unn logo me gina hi nhi..!

पता तो मुझे भी था,
कि लोग बदल जाते है,
पर मैंने तो कभी तुम्हे
उन् लोगो में गिना ही नही…!

Patjhad me sirf patte girte hai,
Najro se girne ka koi,
Mausam nhi hota hai.

पतझड़ में सिर्फ पत्ते गिरते है,
नजरो से गिरने का कोई मौसम नही होता है…!

Ek umr beet chli hai tujhe chahte hue,
Tu aaj bhi bekhabr hai kal ki trah..!

एक ऊम्र बीत चली है तुझे चाहते हुए,
तू आज भी बेखबर है कल की तरह..!

gulzar shayari

Na kar itna gurur apne nashe par sharab,
Tujhse jayda nasha rakhti hai aankhe kisi ki..

न कर इतना गुरुर अपने नशे पर शराब,
तुझसे ज्यादा नशा रखती है किसी की आँखे,

gulzar shayari

Bahut bebas ho jata hai uss vakt insaan,
jab vo kisi ko kho bhi nhi sakta,
Aur uska kabhi ho bhi nhi skta..!

बहुत बेबस हो जाता है उस वक्त इन्सान,
जब वो किसी को खो भी नही सकता,
ओर उसका कभी हो भी नही सकता…!

Kaha talash kroge tum,
Mere jaise shakhs ko,
Jo tumse khafa hone ke baad bhi sirf,
Tumse hi mohobbat krta hai,

कहाँ तलाश करोगे तुम,
मेरे जैसे शख्स को,
जो तुमसे खफा होने के बाद भी सिर्फ.
तुमसे ही मोहोब्बत करता है,

Tumko likh paana kaha mumkin hai,
Itne khoobsurat to lafaj bhi nhi mere paas..!

तुमको लिख पाना कहा मुमकिन है,
इतने खूबसूरत तो लफ्ज भी नही मेरे पास,

Dhoop me Baap aur Chulhe par Maa jalti hai,
Tab kahi jaakr aulaad palti hai,

धुप में बाप ओर चूल्हे पर माँ जलती है,
तब कही जाकर औलाद पलती है..!

Yeh duniya hai janab,
Mehfilo me badnaam aur muh par salam krte hai,

ये दुनिया है जनाब,
महफ़िलो में बदनाम ओर मुह पर सलाम करते है,

yeh mardo,
Mask lgakr itne dino me to
pata chl hi gya hoga,
Ki ek aurat kaise ghunghat me kasie rehti hogi.

यह मर्दों,
मास्क लगाकर इतने दिनन में तो पता
चल ही गया होगा,
कि एक औरत घूँघट में की रहती होगी..!

Shak to tha mohobbat me nuksan hoga,
Par saara mera hi hoga,
yeh pata nhi tha..

शक तो था मोहोब्बत में नुकसान होगा,
पर सारा मेरा ही होगा,
ये पता नही था..!

Rakhta nhi khabar kon kaisa hai,
Kar leta hu bharosa har kisi
par apna to dil hi aisa hai.

रखता नही खबर कोन कैसा है,
कर लेता हु भरोसा हर किसी पर अपना तो दिल ही ऐसा है,

Narajgi aaj bhi usne kuch yu jahir kar di,
Chaye to banai lekin door laakr rakh di.

नाराजगी आज भी उसने कुछ यु जाहिर कर दी,
चाय तो बनाई लेकिन दूर लाकर रख दी..!

Paid kaatne aaye hai kuch log mere gaon mai,
Abhi dhoop tej hai,
Kehkr bethe hai uski chaav mai..!

पेड़ काटने आये है कुछ लोग मेरे गाँव मै,
अभी धुप तेज है,
कहकर बेठे है उसकी छावं मै ..!

Rishte tod dene se mohobbat khatm nhi hoti,
Dil mai vo bhi rehte hai,
Jo duniya chhod jaate hai,

रिश्ते तोड़ देने से मोहोब्बत ख़तम नही होती,
दिल मै वो भी रहते है,
जो दुनिया छोड़ जाते है !

Kehte hai ki ho jaata hai sangat ka asar,
Magar kaanto ko to aaj tak
nhi aaya mehkne ka salifa..!

कहते है कि हो जाता है संगत का असर,
मगर कांटो को तो आज तक,
नही आया महकने का सलिफा !

gulzar shayari

Dalkar aadat vo bepanha mohobbat ki,
Ab vo kehte hai samjha kro..

डालकर आदत वो बेपनाह मोहोब्बत की,
अब वो कहते है समझा करो,

Dil mai iss kadar mohobbat hai unke liye,
Soye to khawab unke,
Jaage to khayal unke,

दिल मै इस कदर मोहोब्बत है उनके लिए,
सोये तो ख्वाब उनके,


Leave a Reply